गुटका कारोबारी का काला धन जब्त

दबंग दुनिया के मालिक किशोर वाधवानी नक्सलियों का आर्थिक मददगार लगा आरोप
2000-notes-afp_650x400_81479120744-1
*90 लाख रुपए रायपुर में पकड़ाए*
देश के दस राज्यों में आतंक बरपाने वाले नक्सलियों का आर्थिक मददगार का चौंकाने वाला खुलासा हुआ है। इनका आर्थिक मददगार दबंग दुनिया अखबार का  मालिक किशोर वाधवानी निकला है। किशोर वाधवानी का अखबार मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, महाराष्टÑ से निकलता है। ये तीनों प्रदेश नक्सलियों के आतंक से पिछले तीन दशक से परेशान है। किशोर वाधवानी नशे का भी बड़ा करोबारी है। किशोर वाधवानी के दो गुर्गे आज रायपुर में नक्सलियों के 90 लाख रुपए बैंक में बदलवाते हुए रंगे हाथों पकड़े गए। रायपुर की बैंक आॅफ इंडिया की देवेंद्र नगर शाखा में किशोर वाधवानी के दबंग दुनिया अखबार में काम करने वाले मनीष मिश्रा और राजेश दुबे 500 और 1000 के नोट जमा करने पहुंचे थे। 90 लाख मूल्य के पुराने नोट देखकर बैंक को शक हुआ तो उसने एसआईबी को सूचना दी। पूछताछ में दोनों ने चौंकाने वाला खुलासा किया। मनीष और राजेश दुबे ने कबूल किया कि यह पैसा नक्सलियों का है जिसे वे दबंग दुनिया के मालिक किशोर वाधवानी के कहने पर जमा करने आए हैं। इस पूरे मामले में किशोर वाधवानी का एक और साथी कपिल भटनागर भी शामिल हैं। पुलिस अभी मनीष और राजेश से पूछताछ कर रही है। इतनी बड़ी राशि की जानकारी आयकर विभाग को भी दे दी गई है। 
*वाधवानी ने ही पहुंचाए थे नक्सलियों तक रुपए*
एसआईबी की रिपोर्ट में यह बात भी सामने आई है कि यह 90 लाख रुपए किशोर वाधवानी ने ही नक्सलियों तक पहुंचाए थे, लेकिन इस बीच नोट बंदी हो गई जिसके चलते नक्सलियों ने किशोर वाधवानी से इस संबंध में संपर्क किया और नोट बदलने के लिए कहा। किशोर वाधवानी और उनके अखबार के कर्मचारी कपिल भटनागर नक्सलियों के मुख्य सूत्रधार हैं।
*जांच में जुटी रायपुर पुलिस*
एसआईबी रायपुर इस पूरे गठजोड़ के खुलासे में जुट गई है। इस संबंध में जल्द ही पुलिस किशोर वाधवानी से पूछताछ करेगी। नक्सलियों द्वारा पिछले कुछ सालों में की गई गंभीर वारदातों में भी आर्थिक मदद करने वालों तक पुलिस इस पूछताछ में पहुंच सकती है। जानकारी के मुताबिक एसआईबी की एक टीम किशोर वाधवानी के ठिकानों के लिए निकल चुकी है। 
*इनकम टैक्स डिपार्टमेंट भी करेगा जांच*
नक्सलियों के 90 लाख बदलवाने के मामले में किशोर वाधवानी की जांच अब इनकम टैक्स डिपार्टमेंट भी करेगा। बैंक ने इसकी जानकारी आयकर विभाग को सौंप दी है। आयकर विभाग की नजर पहले से भी वाधवानी के कारोबार पर थी, अब उसके खिलाफ अन्य मामलों की जांच में भी तेजी आएगी। सूत्रों के मुताबिक जानकारी मिलने के बाद किशोर वाधवानी के सभी बैंक खातों पर आयकर विभाग ने अपनी नजर जमा ली है।
*हवाला का तो नहीं पैसा?*
किशोर वाधवानी हवाला कारोबारी है। उसका हवाला कारोबार देश के कई राज्यों के साथ ही विदेशों तक फैला हुआ है। इस मामले में कई बार सीबीआई भी पूछताछ भी कर चुकी है। जानकारी के मुताबिक नक्सलियों तक यह 90 लाख की रकम भी हवाला के जरिए वाधवानी ने भेजे थे। इस संबंध में प्रवर्तन निदेशालय को भी जानकारी देने की तैयारी की जा रही है। 
*वाधवानी पर चल रही कई जांच*
किशोर वाधवानी हवाला, नशे का कारोबार और नक्सलियों की मदद के मामले में कई जांचों में पहले से ही फंसा हुआ है। सीबीआई भी कई मामलों में किशोर वाधवानी से पूछताछ कर चुकी है। उधर, वाधवानी हत्या के मामले में भी संदेही रह चुका है।
*इन्हीं पैसों से आते हैं नक्सलियों के हथियार*
नक्सली अपनी फंडिंग के लिए बड़े व्यापारियों पर डिपेंड करते हैं। इन्हीं पैसों से नक्सली पुलिस से मुकाबला करने के लिए आधुनिक हथियार खरीदते हैं। नक्सली चाइना तक से हथियार लाते हैं। 

Share